Sunday, September 23, 2012

रात के पिछले पहर

रात के पिछले पहर रोज़ वही ख्वाब सताता है
न जाने कौन सी दुनिया की सैर कराता है
सुबह होते होते जब किसी तरह होश आता है
एक कदम भी क्या ख़ाक चला जाता है

© सुधीर रायकर
रात के पिछले पहर

Right Season, Wright Reason

Recalling a dated piece that has enough to keep it relevant in the wake of the Kohli-Kumble controversy... John Wright’s Indian Summers m...